You are currently viewing Numbness Problem यानि की हाथ और पैर के सुन्न होने की समस्या को दूर करने के घरेलू उपचार

Numbness Problem यानि की हाथ और पैर के सुन्न होने की समस्या को दूर करने के घरेलू उपचार

कभी-कभी हमारे हाथ और पैर सुन्न पड़ जाते हैं, जिससे हमें किसी भी चीज को छूने का एहसास मालूम नहीं हो  पाता।  शरीर के अंग सुन्न पड़ जाना एक आम सी समस्या है। हाथ-पैर एकाएक सुन्न हो जाना, झनझनाहट होना या उंगलियों में सूजन इसे अनदेखा कर देते है।

लेकिन, क्या आपको लगता है कि आपके शरीर का एक भाग अचानक से सुन्न हो जाता है, यह आम समस्या होगी. इसके कई कारण हो सकते हैं जैसे लगातार हाथों और पैरों पर प्रेशर, किसी ठंडी चीज को बहुत देर तक छूते रहना, तंत्रिका चोट, बहुत अधिक शराब का सेवन, थकान, धूम्रपान, मधुमेह, विटामिन या मैग्नीशियम की कमी आदि।

बहुत देर तक एक ही अवस्था में बैठे रहने के कारण पतली नसें दब जाती है। हमारे हर एक अंग की नसें ब्रेन से कनेक्ट रहती है. यही कारण है कि चोट लगने वाले स्थान पर किसी तरह से नस दब जाती है, जिसके कारण ब्रेन तक उस अंग के बारे में information नहीं पहुंच पाती है।

यही कारण है कि उस स्थान पर सुन्न लगता है और एकाएक उस जगह की जानकारी मिलते ही या मूवमेंट होते ही झनझनाहट सी महसूस होती है. इन कारणों से नर्वस सिस्टम पर बुरा प्रभाव पड़ता है।

अगर शरीर में बार -बार  सुन्न होने की समस्या हो रही है तो हमें अपने खाने में तिल ,मेथी ,अलसी के बीज ,और इसके साथ ही बादाम , केला काजू को भरपूर  मात्रा में लेना चाहिए।  इसलिए हाथ -पैरों के सुन्न होने की समस्या से बचने के लिए हमें कुछ घरेलू उपाय इस्तेमाल करने चाहिए ,जैसे कि 

  1. गर्म पानी का सेंक – सबसे पहले प्रभावित जगह पर गरम पानी की बोतल का सेंक रखें। इससे वहां की ब्लड सर्कुलेशन बढ़ जाएगी। इससे मांसपेशियां और नसें रिलैक्‍स होंगी। एक साफ कपड़े को गरम पानी में 5 मिनट के लिए भिगोएं और फिर उससे प्रभावित जगह को सेंके। आप चाहें तो गर्म पानी से स्नान भी कर सकती हैं। 
  2. मसाज करना –  अगर आपको लग रहा कि आपके हाथ या पैर सुन्न हो रहें हैं तो उन्हें मसाज करना चाहिए इससे ब्लड सिक्युलेशन बढ़ता है।  आप जैतून के तेल ,सरसों के तेल ,नारियाल के तेल से मसाज कर सकते हैं। एक चमच सरसों के तेल में कुछ बुँदे तुलसी के रस कि मिलाये फिर इस मिश्रण से सुन्न हुयी जगह पर मसाज करें। इसके आलावा पीपल कि चार कोमल कोपलों को सरसों के तेल में मिलाकर पकाएं फिर इस मिश्रण से सुन्न पढ़े अंग पर मसाज करें इससे आराम मिलेगा। 
  3. हल्दी के दूध का सेवन – हल्दी में ऐसे तत्व पाए जाते हैं जो ब्लड सर्कुलेशन बढ़ाते हैं। साथ ही यह सूजन, दर्द और परेशानी को भी कम करती है। एक गिलास दूध में 1 चम्‍मच हल्‍दी मिक्‍स कर के हल्की आंच पर पकाएं और इस हल्दी वाले दूध का सेवन करें।  इसे पीने से काफी राहत मिलेगी।
  4. पौष्टिक भोजन का सेवन – पौष्टिक भोजन हमारे शरीर को कई रोगों से बचाते हैं. ज्यादातर अंग के सुन्न होने की समस्या विटामिन बी व बी काम्पलैक्स, मैग्नीशियम, रिच प्रोटीन, आयरन के कारण होता है. ऐसे में जिन फूड्स में ऐसे तत्व पाए जाते हैं उसका सेवन करना चाहिए. उदाहरण के तौर पर दालचीनी, मूंगफली, डार्क चॉकलेट, मछली, लहसुन, केला, सोयाबीन समेत अन्य आहारों का सेवन कर सकते है. और पानी की मात्रा भी शरीर में सही होना चाहिए। विटामिन B12 से भरपूर भोजन करें। अंकुरित दाले, सूखे मेवे, देशी गुड आदि शाकाहारियों के लिये उत्तम है।
  5. हरी पत्तेदार सब्जियों का सेवन –  हरी पत्‍तेदार सब्‍जियां, मेवे, बीज, ओटमील, पीनट बटर, ठंडे पानी की मछलियां, सोयाबीन, एवोकाडो, केला, डार्क चॉकलेट और लो फैट दही आदि खानी चाहिये। हमें अधिक से अधिक मैग्नीशियम का सेवन करना चाहिए। 
  6. दालचीनी का सेवन – दालचीनी में केमिकल और न्यूट्रिएंट्स होते हैं जो हाथ और पैरों में ब्लड फ्लो को बढ़ाते हैं। इसको लेने का अच्छा तरीका है कि एक गिलास गर्म पानी में 1 चम्‍मच दालचीनी पाउडर मिलाएं और दिन में एक बार पियें। दूसरा तरीका है कि 1 चम्‍मच दालचीनी और शहद मिलाकर सुबह कुछ दिनों तक सेवन करें।
  7. व्यायाम या योग –  व्यायाम करने से शरीर में ब्लड सर्कुलेशन होता है और वहां पर ऑक्सीजन की मात्रा बढ़ती है। रोजाना हाथ और पैरों का 15 मिनट व्यायाम करना चाहिये। हफ्ते में 5 दिन के लिये 30 मिनट एरोबिक्स करें, जिससे आप हमेशा स्वस्थ बने रहें।
  8. सोंठ और लहसुन – एक चम्मच सोंठ और चार -पांच कलियाँ लहसुन को मिलाकर पेस्ट बना लें फिर इसे सुन्न जगह पर लगा लें ,इससे काफी फायदा होता है। पजाह ग्राम नारियल तेल में दो ग्राम जायफल का चूर्ण मिलाकर सुन्न अंग पर लगाने से आराम मिलता है। सुबह खाली पेट सोंठ या लहसुन की दो -तीन कलियां खाने से ब्लड सर्कुलेशन  ठीक होता है और सुन्नपन की समस्या नहीं होती। 
  9. सेंधा नमक – गर्म पानी में सेंधा नमक घोलें और उसमें 10 मिनट तक पैर भिगोए। ऐसा करने से आपको आराम मिलेगा। 
  10. अदरक और अजवाइन की चाय – इसके लिए हमें एक पैन में एक गिलास पानी डालकर उसमे एक चमच अजवाइन और थोड़ा सा अदरक का रस मिलाकर उबालना है फिर इसे सुबह खाली  पेट इस चाय का सेवन करने से numbness  से राहत मिलती है।  
  11. डेटॉक्स वाटर – डेटॉक्स वाटर के सेवन से सुन्नपन से छुटकारा पाया जा सकता है ,इसके लिए हमें एक बोतल पानी में सेब के कुछ टुकड़े बारीक काटकर डालें, फिर इसमें आधी चमच हल्दी डालें ,इसके बाद इसमें आधी चमच दालचीनी डालें, और एक चमच खसखस डालें, फिर इसमें तीन चमच chia seed  डालें, फिर इसे अच्छे से मिलाकर  रसोई में रख दें और सुबह को इस पानी को छान कर निकाल लें फिर इसे पूरा दिन  सि -सिप करके पी सकते हैं, इसका सेवन पंद्रह दिनों तक करना है इससे काफी लाभ होगा। 
  12. देसी घी –  देसी घी से भी इस समस्या से चुटकियों में राहत मिल जाती  हैं। सुन्नपन से राहत पाने के लिए रात को सोने से पहले देसी घी को हल्का सा गर्म करें। इस तेल को तलवे पर लगाएं। इससे सुन्नपन की समस्या से राहत मिलेगी। इसके अलावा पैरों के फटने की समस्या से भी छुटकारा मिलेगा।

    तो हम कह सकते है कि एक ही पोजीशन में अधिक देर तक बैठे रहने से ,कोई भारी सामान उठाने से ,किसी प्रकार की चोट लगने से या सोते समय कोई अंग दब जाने से हमारा Blood Circulation  बाधित हो जाता है, जिससे हमारा वह अंग थोड़ी देर के लिए सुन्न हो जाता है।

    साधारण तोर पर ये हर किसी के साथ होता है, इस समस्या से बचने के लिए हमें सेहत का बहुत ध्यान रखना चाहिए, हमें हमेशा पौष्टिक आहार लेना चाहिए जो की विटामिन से भरपूर हो ,नियमित रूप से कसरत और योग करनी चाहिए, हमे रोज गुनगुने तेल से मालिश करनी चाहिए, रात को सोते समय दूध में हल्दी मिलाकर पीना चाहिए। तो इस प्रकार इन घरेलू उपायों से हम numbness या हाथ-पैर सुन्न होने  की समस्या  से छुटकारा पा सकते है। 

Leave a Reply