You are currently viewing Hyperthyroidism के लिए घरेलू उपचार
Hyperthyroidism के लिए घरेलू उपचार

Hyperthyroidism के लिए घरेलू उपचार

आजकल अनियमित जीवनशैली के कारण हाइपरथायरायडिज्म की समस्या बढ़ गयी है, इसलिए यदि कोई व्यक्ति  हाइपरथायरायडिज्म की समस्या से पीड़ित हैं तो इसका मतलब है कि उस व्यक्ति का  शरीर अधिक मात्रा में थायराइड हार्मोन T3 और T4 का उत्पादन कर रहा है। हाइपरथायरायडिज्म का इलाज करने के लिए, आपको मृत्यु तक रासायनिक गोलियां लेने के बजाय घरेलू उपचार का प्रयास करना चाहिए।

इसलिए 3 महीने के अंदर थायराइड की समस्या को दूर करने के लिए घरेलू नुस्खे का प्रयोग करना चाहिए। हाइपरथायरायडिज्म की समस्या में  भूख में वृद्धि या कमी,अधिक पसीना आना, सांस लेने में कठिनाई, दृष्टि परिवर्तन,बढ़ा हुआ ब्लड शुगर, अनियमित मासिक धर्म, ऊष्मा असहिष्णुता, वजन घटना आदि लक्षण होते हैं।

इस समस्या को दूर करने के घरेलू उपाय इस प्रकार है – 

  1. धनिया बीज – धनिया दुनिया में हाइपरथायरायडिज्म के लिए सबसे अच्छे घरेलू उपचारों में से एक है। हाइपरथायरायडिज्म के इलाज के लिए धनिया के पत्ते और धनिया के बीज दोनों प्रभावी हैं। हाइपरथायरायडिज्म के इलाज के लिए धनिया का उपयोग करने के तीन तरीके इस प्रकार है।

    कुछ धनिया पत्ती को पीसकर उसका गाढ़ा पेस्ट बना लें। तीन महीने तक रोजाना एक गिलास गुनगुने पानी के साथ 1 बड़ा चम्मच धनिया पत्ती का पेस्ट खाएं।

    रात को एक गिलास गुनगुने पानी में 1 बड़ा चम्मच धनिये के बीज डाल दें। इस पानी को सुबह खाली पेट पिएं और खाने से पहले बीजों को पीस लें या अच्छी तरह चबा लें।

    एक कप पानी में एक बड़ा चम्मच धनिया के बीज डालकर कुछ मिनट तक उबालें। जब पानी आधा हो जाए तो इस मिश्रण को गर्म चाय की तरह पिएं। इसे सुबह-शाम खाली पेट पीना चाहिए। इसे तीन महीने तक जारी रखें।
  1. बड़ा चम्मच धनिया 2 डालिये। 
  2. गौमूत्र (गोमूत्र) – गोमूत्र (देसी गाय का मूत्र) भी हाइपरथायरायडिज्म के लिए सबसे अच्छे घरेलू उपचारों में से एक है। सुबह खाली पेट एक कप (50 मिली) गोमूत्र पीने से तीन महीने में थायराइड की समस्या ठीक हो जाती है। अगर आप इसमें तुलसी के पत्ते डालेंगे तो यह 2 महीने में थायराइड को ठीक करने में मदद करेगा।
  3. आंवला (भारतीय करौदा) – आँवला अतिसक्रिय थायराइड की समस्या के लिए भी सबसे अच्छी दवा है। 1 चम्मच आंवले के पाउडर में 1 चम्मच शहद मिलाकर गाढ़ा पेस्ट बना लें। इस पेस्ट को रोजाना सुबह खाली पेट खाएं।
  4. ओमेगा-3 फैटी एसिड –  पर्याप्त मात्रा में ओमेगा -3 फैटी एसिड का सेवन करना चाहिए क्योंकि इसके बिना थायरॉइड ग्लैंड ठीक से काम नहीं करेगा और ये  शरीर में हार्मोन को बैलेंस करने में मदद करता है। इसलिए थायराइड की समस्या का इलाज करने के लिए आपको इसका सेवन शामिल करना चाहिए -सन बीज,अंडे, मछली,अनाज,अखरोट,डेरी प्रोडक्ट आदि। 
  5. नींबू बाम – लेमन बाम भी हाइपरथायरायडिज्म के लिए सबसे अच्छे घरेलू उपचारों में से एक है। इस जड़ी बूटी के फेनोलिक एसिड, फ्लेवोनोइड और अन्य यौगिक अतिसक्रिय थायरॉयड के इलाज और उत्तेजित करने के लिए बहुत प्रभावी हैं।इसके लिए एक कप उबलते पानी में 1 बड़ा चम्मच लेमन बाम मिलाएं।

अच्छी तरह से चलाते हुए 5 मिनट के लिए ऐसे ही रख दें। इसे छानकर दिन में तीन बार पानी पिएं।

इसके अलावा इस थायराइड की समस्या से बचने के लिए कुछ टिप्स इस प्रकार है –

  1. सेंधा, काला या सामान्य नमक ही इस्तेमाल करें।
  2. अदरक एंटी-इंफ्लेमेटरी का एक अच्छा स्रोत है जो थायराइड की समस्याओं के इलाज के लिए प्रभावी है।
  3. अखरोट और बादाम खाएं।
  4. अपने भोजन में काली मिर्च का प्रयोग करें जो कि थायराइड की समस्या के इलाज के लिए कारगर पाया गया है। 

तो हम कह सकते हैं कि इन घरेलू उपायों की मदद से हम इस हाइपरथायरायडिज्म की समस्या को दूर कर सकते है इसके साथ ही हमें अपने खान पान और नियमित जीवनशैली को अपनाना चाहिए। हमें ताज़े फल और हरी सब्जियों का सेवन करना चाहिए।

Leave a Reply