You are currently viewing स्वास्थ्य को त्रिफला चूर्ण के सेवन से होने वाले लाभ
स्वास्थ्य को त्रिफला चूर्ण के सेवन से होने वाले लाभ

स्वास्थ्य को त्रिफला चूर्ण के सेवन से होने वाले लाभ

त्रिफला चूर्ण का सेवन हमारे स्वस्थ के लिए बहुत ही फायदेमंद है क्योंकि इसके सेवन से कब्ज से राहत, वजन कम करने, अपच, पेट के विकार और अन्य स्वास्थ्य संबंधी समस्यायों को दूर किया जा सकता  है। त्रिफला चूर्ण  शरीर के तीनों वात, पित्त और कफ दोष को संतुलित करता है। त्रिफला चूर्ण के नाम से ही स्पष्ट है कि ये तीन प्रकार के चूर्ण  को मिलाकर बनाया गया है जैसे कि –

  1. आंवला ((Indian Gooseberry)
  2. बिभीतकी – Terminalia Bellirica
  3. हरीतकी – Terminalia Chebula

इन तीनो प्रकार के चूर्ण की सामान मात्रा को मिलाकर इस सेवन किया जाता है ,इस चूर्ण के सेवन से होने वाले लाभ इस प्रकार है – 

  1. कब्ज से राहत दिलाता है – त्रिफला चूर्ण के महत्वपूर्ण स्वास्थ्य लाभों में से एक कब्ज से राहत दिलाना है। अगर आपको कब्ज़ की समस्या है तो  गर्म पानी में 1-2 चम्मच त्रिफला चूर्ण (पाउडर) मिलाकर सोने से पहले पिएं। ऐसा करने से  कब्ज की समस्या दूर होती है। 
  2. वात, पित्त और खांसी को संतुलित करता है – हमारे शरीर में असंतुलन वात, पित्त और खांसी के दोष के कारण होती हैं। त्रिफला चूर्ण (पाउडर) वात, पित्त और कफ दोष को संतुलित करने में मदद करता है। यदि ये तीनों दोष संतुलित हैं तो आपका स्वास्थ्य भी अच्छा होगा।
  3. वजन घटाने में मदद करें – त्रिफला में anti hyperlipidemia क्षमताएं, एंटीऑक्सिडेंट और anti-obesity  गुण होते हैं जो fat को जलाने में मदद करते  हैं। अगर आप भी  बिना डाइट और एक्सरसाइज के अपना वजन कम करना चाहते हैं तो वजन कम करने के लिए त्रिफला चूर्ण का सेवन करना चाहिए ,ये बजन कम करने का एक अच्छा उपाय है। सोने से पहले आधा चम्मच त्रिफला चूर्ण गर्म पानी के साथ लिया जा सकता है और सुबह भी आप इसे खाली पेट पी सकते हैं।
  4. रक्तचाप बनाए रखें Maintain Blood Pressure – त्रिफला में आवश्यक फैटी एसिड होते हैं, जैसे लिनोलिक एसिड और एंटी-स्पास्मोडिक Linoleic Acid and Anti-Spasmodic  गुण जो उच्च रक्तचाप high blood pressure को रोकता है और कम करता है।
  5. निम्न कोलेस्ट्रॉल Lower Cholesterol – शरीर के समुचित कार्य के लिए कोलेस्ट्रॉल का एक अच्छा स्तर महत्वपूर्ण है। लेकिन जब यह कोलेस्ट्रॉल लेवल हाई हो जाता है तो यह धमनियों में प्लाक(plaque in the arteries) बनने लगता है। नतीजतन, हृदय की धमनियां सख्त और संकरी (hard and narrow ) हो जाती हैं जिससे दिल का दौरा और स्ट्रोक ( heart attack and stroke) का खतरा बढ़ जाता  है। गर्म पानी के साथ त्रिफला चूर्ण का नियमित सेवन स्वाभाविक रूप से कोलेस्ट्रॉल को कम करने के लिए प्रभावी है।
  6. कैंसर से बचाता है – त्रिफला चूर्ण कैंसर के इलाज और रोकथाम के लिए प्रभावी पाया गया क्योंकि इसमें एंटीनोप्लास्टिक, रेडियोप्रोटेक्टिव, कीमोथेराप्यूटिक (antineoplastic, radioprotective, chemotherapeutic)और कैंसर की समस्या को दूर करने के गुण होते  हैं।
  7. मधुमेह ( Diabetes)के लिए अच्छा – त्रिफला चूर्ण में हाइपोग्लाइसेमिक (hypoglycemic) प्रभाव होता है और सेलुलर प्रतिरोध ( cellular resistance) को कम करता है जिससे कोशिकाओं द्वारा इंसुलिन का उपयोग आसान हो जाता है। इसलिए यह मधुमेह मेलिटस (diabetes mellitus)के इलाज के लिए सबसे अच्छे घरेलू उपचारों में से एक है।
  8. सांसों की बदबू को ठीक करता है – यदि आप नियमित रूप से अपने दाँत ब्रश करते हैं लेकिन फिर भी मुहं से बदबू आती है  तो इस बात का ध्यान रखना चाहिए  कि आपका पेट साफ है या नहीं है।अगर पेट साफ़ नहीं होगा या अगर अपच की समस्या है तो ये आपकी सांसों की दुर्गंध का कारण बन सकती है। इस समस्या को दूर करने के लिए 1-2 चम्मच त्रिफला चूर्ण को कुछ दिनों तक सोने से पहले एक गिलास गर्म पानी या दूध के साथ लेना चाहिए। त्रिफला कुछ 8-10 दिनों में कचरे (विषाक्त पदार्थों) को हटा देगा। इसके सेवन से मुहं की बदबू की समस्या भी दूर हो जाती है। 

तो हम कह सकते हैं कि त्रिफला चूर्ण  हमारे स्वस्थ के लिए बहुत फायदेमंद होती है। इसके सेवन से हम हमारी रोग-प्रतिरोधी शक्ति बढ़ जाती है। हमारा पाचन तंत्र भी भी सही रहता हैं। 

Leave a Reply