You are currently viewing संत रविदास के दोहे

संत रविदास के दोहे

करम बंधन में बन्ध रहियो, फल की ना तज्जियो आस
कर्म मानुष का धर्म है, सत् भाखै रविदास ||

Leave a Reply