You are currently viewing Night Blindness (रतौंधी) को ठीक करने के घरेलू उपाय

Night Blindness (रतौंधी) को ठीक करने के घरेलू उपाय

रतौंधी विटामिन ‘ए’ और विटामिन ‘बी’ की कमी से होता है। विटामिन ‘ए’ तथा ‘बी’ फलों, दूध, सब्जियों आदि में भरपूर मात्रा में पाया जाता है, इसलिए हमें अधिक मात्रा में  मौसमी फल एवं सब्जियों का सेवन करना चाहिए,  रतौंधी रोग को दूर करने के घरेलू उपाय इस प्रकार हैं –

  1. शहद के इस्तेमाल से – इसके लिए आंखों में सुबह-शाम शुद्ध शहद की सलाई या शहद को काजल की तरह लगाना  चाहिए, इसके इस्तेमाल से आँखों कि रौशनी बढ़ती हैं और इससे रतौंधी की समस्या दूर होती हैं। 
  2. सौंफ और बूरा का सेवन – इसके लिए रात के समय सौंफ तथा बूरा 25 ग्राम की मात्रा में कुछ दिनों तक नियमित रूप से  सेवन करना चाहिए ,इसके सेवन से रतौंधी रोग को दूर किया जा सकता हैं। 
  3. घी और कालीमिर्च के इस्तमाल से – इसके लिए देशी घी में एक रत्ती कालीमिर्च का महीन चूर्ण मिलाकर आंखों में सलाई से लगाने से रतौंधी रोग को दूर किया जा सकता हैं। 
  4. पान के सेवन से – इसके लिए आंखों में पान के पत्ते का रस डालने से रतौंधी  रोग को दूर किया जा सकता हैं। ये आँखों की रौशनी बढ़ाने में मदद करता हैं। 
  5. बथुए और सेंधा नमक के सेवन से – इसके लिए बथुए का रस को बूंद-बूंदकर आंखों में डालें तथा इसके रस में सेंधा नमक मिलाकर पीने से रतौंधी रोग को दूर किया जा सकता हैं। 
  6. गाय के देसी घी के इस्तेमाल से – इसके लिए आंखों में गाय के  शुद्ध देशी घी की सलाई कुछ दिनों तक लगाने से रतौंधी खत्म हो जाती है। इसका इस्तेमाल रोज करना चाहिए।
  7. गुलाबजल और फिटकिरी के इस्तेमाल से – इसके लिए गुलाबजल में फिटकिरी घोलकर आंखों में बूंद-बूंद करके डालने  से रतौंधी की समस्या दूर होती हैं। 
  8. अनार के सेवन से – आंखों में अनार का रस डालने से रतौंधी का रोग ठीक हो जाता  है। इसके अलावा अनार का जूस पीने से और इसके दाने खाने से ऑंखें स्वस्थ रहती हैं। 
  9. पानी, सिरका और शहद का सेवन – इसके लिए पानी में थोड़ा-सा सिरका तथा शहद मिलाकर पीने से रतौंधी की समस्या दूर हो जाती है। इसका सेवन कुछ दिनों तक नियमित रूप से करना चाहिए। 
  10. हरड़ के इस्तेमाल से – इसके लिए रात को दो हरड़ साफ पानी में भिगो दें, फिर सुबह के समय इस पानी से अपनी आंखें धोनी चाहिए, ऐसा करने से रतौंधी की समस्या दूर होती हैं।
  11. दूब के इस्तेमाल से – इसके लिए दूब घास को पीसकर आंखों की पलकों पर लेप लगाना चाहिए। ऐसा करने से आँखों को ठंडक मिलती हैं और इसके इस्तेमाल से रतौंधी को दूर किया जा सकता हैं। 
  12. सिरस के पत्तों के इस्तेमाल से – इसके लिए सिरस के पत्तों का रस की  तीन-चार बूंदों  को नियमित रूप से रोज अपनी आंखों में डालनी चाहिए, इसके इस्तेमाल से भी रतौंधी कि समस्या को दूर किया जा सकता हैं।
  13. रीठे के इस्तेमा से – इसके लिए रीठे की गुठली को यदि स्त्री के दूध में घिसकर आँखों में लगाएँ तो यह भी रतौंधी कि समस्या को ठीक करने में बहुत मदद करता हैं। 
  14. तुलसी के पत्तों  के इस्तेमॉल से – इसके लिए तुलसी के पत्तों का रस दिन में तीन चार बार आंखों में डालने से रतौंधी शीघ्र ही नष्ट हो जाती है। 
  15. पौष्टिक आहार का सेवन – रतौंधी की समस्या में रोगी को सहिजन (सुरजना फली) के पत्ते व फली, मेथी, मूली के पत्ते, पपीता, गाजर और लौकी व कद्दू का ज्यादा से ज्यादा सेवन  करना चाहिये। गूलर व अंजीर के फलों का भी भरपूर मात्रा में सेवन करना चाहिए। 
  16. प्याज का रस का सेवन – इसके लिए हर रोज अपनी आँखों में एक-दो बून्द प्याज का रस डालने से रतौंधी की समस्या को दूर किया जा सकता हैं। 

तो हम कह सकते है कि इन घरेलू उपायों की मदद से हम रतौंधी की समस्या से छुटकारा पा सकते हैं। हमें अपनी आँखों का सही से ध्यान रखना चाहिए, इसके लिए हमें नियमित जीवनशैली का पालन करना चाहिए, हमें अपनी आँखों पर ज्यादा द्वाव नहीं देना चाहिए, नियमित रूप से आँखों की व्यायाम करना चाहिए।

Leave a Reply