You are currently viewing हमारे स्वास्थ के लिए फायदेमंद तेल

हमारे स्वास्थ के लिए फायदेमंद तेल

हर घर में खाना पकाने के लिए तेल का प्रयोग किया जाता है जैसेकि सोयाबीन तेल, जैतून का तेल, सरसों का तेल आदि। पहले घरों में खाना पकाते समय सरसों के तेल का इस्तेमाल अधिक किया जाता था पर आजकल लोग अपने स्वास्थ के प्रति बहुत सचेत हो गए है इसलिए वे जैतून का तेल या अन्य तेल का प्रयोग करते है क्योंकि इन तेलों में पौष्टिक तत्व अधिक मात्रा में पाए जाते  है जो  हमारे स्वास्थ के लिए बहुत ही  फायदेमंद होते  है इन विभिन्न तेलों के फायदे इस प्रकार है –

  1. राइस ब्रान ऑइल (Rice Bran Oil) – Rice Bran Oil में लिपोइक एसिड होता है जो खून में शुगर के स्तर को स्थिर करता है और Extra चीनी से शरीर में होने वाले नुकसान को कम करता है। इसमें हमारे अच्छे स्वास्थ्य के अलावा ये कोलेस्ट्रॉल को सही संतुलन में बनाय रखने में मदद करता है। ये तेल हमारे स्वास्थ्य के लिए बहुत ही उपयोगी है।
    Rice Bran Oil का उपयोग करना – इस तेल का उपयोग सब्जियों और मांस को तलने, बेकिंग, पैन-फ्राइंग और ग्रिलिंग के लिए किया जा सकता है। यह High तापमान के लिए एक सीमा है और इसलिए, बहुमुखी है। इसका उपयोग सलाद ड्रेसिंग और मैरिनेड को बढ़ाने के लिए भी किया जा सकता है।
  2. नारियल का तेल (Narial oil ) – भारत के कई राज्यों ने हमेशा खाना पकाने के लिए नारियल के तेल का उपयोग किया है, लेकिन कई लोगों के लिए यह अपने कॉस्मेटिक गुणों और बालों के तेल के रूप में जाना जाता है। यह भारत में सबसे बहुमुखी तेलों में से एक माना जाता है और इसका उपयोग खाना पकाने के साथ-साथ औषधी बनाने के लिए भी किया जाता है। ये तेल चयापचय दर को बढ़ाने और भूख को दबाने के लिए बहुत अच्छा माना जाता है।
    इसके सेवन से एथलीट फुट, दाद, गले के संक्रमण और दाद जैसे फंगल रोगों को ठीक करने में मदद करता है  गया है। नारियल तेल का प्रयोग – यह बहुमुखी है और इसे कई तरह के उद्देश्यों के लिए इस्तेमाल किया जा सकता है – डीप फ्राई करने से लेकर बेकिंग और मिठाई और गुड बनाने तक। ये तेल हमारे स्वास्थ के लिए बहुत ही गुणकारी है। 
  3. तिल का तेल – पुराने समय से इस तेल का प्रयोग भारत में किया जाता रहा है ये उपयोग किए जाने वाले सबसे लोकप्रिय तेलों में से एक माना जाता है। भुने हुए तिल को पीसकर बनाया जाता है, इस तेल का इस्तेमाल ज्यादातर एशियाई खाना पकाने में किया जाता है। तिल के तेल में विटामिन ई, बी6, मैग्नीशियम, कैल्शियम, कॉपर और आयरन की मात्रा अधिक होती है, इसलिए इसमें ऐसे कई गुण होते हैं जो स्वास्थ्य के लिए अच्छे होते हैं। यह तेल High BP और कोलेस्ट्रॉल को कम करने में मदद कर सकता है और यह विशेष रूप से शुगर के मरीजों के लिए बहुत ही  लाभदायक होता है। 
    तिल के तेल का प्रयोग – इस तेल का प्रयोग भूनने, डीप फ्राई करने, उथले तलने के लिए किया जा सकता है। ये तेल दो रंगों में मिलता है एक हल्के रंग में और दूसरा गहरे रंग में। हल्के रंग का ठंडे सलाद के लिए इस्तेमाल किया जा सकता है। गहरे रंग का उपयोग व्यंजनों में एक पौष्टिक तत्वों को बढ़ाने के लिए किया जाता है।
  4. अलसी का तेल – अलसी के तेल में भरपूर मात्रा में पोषक तत्व होते है और इसमें बड़ी मात्रा में ओमेगा -3 फैटी एसिड होता है और यह पाचन में मदद करता है। इसमें एंटीऑक्सिडेंट गुण होने के कारण ये गठिया रोग को ठीक करने में मदद करते हैं। इसे उच्च तापमान पर खाना पकाने में इस्तेमाल नहीं किया जा सकता है।
    अलसी के तेल का प्रयोग – ये तेल अपने पोषण गुणों के लिए जाना जाता है, अलसी के तेल को कच्चा ही लेना चाहिए। उच्च तापमान पर खाना पकाने के लिए इसका इस्तेमाल नहीं किया जा सकता है। और इसलिए, इसका उपयोग सलाद ड्रेसिंग या आखिरी मिनट में पकी हुई सब्जियों या सूप के अलावा किया  जाता है। इसका अधिक से अधिक लाभ उठाने के लिए आपको दही के साथ तेल का सेवन करना चाहिए।
  5. अंगूर के बीज का तेल – अंगूर के बीज का तेल साफ, हल्का, पौष्टिक और स्वाद में फलदार होता है। इसका उपयोग विभिन्न प्रकार के भोजन के लिए  स्वाद प्रदान करने के लिए किया जाता है। इसमें विटामिन ई और ओमेगा -6 फैटी एसिड भरपूर मात्रा में होता है, इसमें प्राकृतिक एंटीऑक्सिडेंट होते हैं, जो अच्छे कोलेस्ट्रॉल को बढ़ाता है। लेकिन अंगूर से एलर्जी वाले लोगों को इससे एलर्जी भी हो सकती है। इसमें उच्च पॉलीअनसेचुरेटेड Fat की मात्रा होती है और इसका उपयोग बेकिंग के लिए, सलाद ड्रेसिंग के रूप में किया जाता है।
    अंगूर के बीज के तेल का उपयोग – जैतून के तेल की तरह, यह भी बहुमुखी है, लेकिन खाना पकाने का उच्च तापमान ले सकता है। मैरिनेड बनाते समय या बेक्ड मीट, ठंडे सलाद और ग्रिल्ड के स्वाद के लिए इसका उपयोग करते समय यह बहुत अच्छा होता है

इसके अलावा कुछ बातों को ध्यान रखना चाहिए जैसेकि

  1. गर्म होने पर तेल बदल जाते हैं – न केवल बनावट, रंग और स्वाद, बल्कि इसके पोषण संबंधी गुण में भी बदलाव आता है। 
  2. जब तेल गर्म होने पर धुआँ आने लगता है तो इसके पोषक तत्व नष्ट हो जाते हैं। 
  3. इन सभी विभिन्न तेलों में अलग-अलग मात्रा में पॉलीअनसेचुरेटेड, मोनोअनसैचुरेटेड और संतृप्त Fat होते हैं। 

तो हम कह सकते है कि इन विभिन्न तेलों का सेवन हमारे स्वास्थ के लिए बहुत ही फायदेमंद है। लेकिन इन तेलों का प्रयोग करते समय इस बात का ध्यान रखना चाहिए कि हमें किसी प्रकार की कोई एलेर्जी न हो और जिस तेल का उपयोग कर रहे है उसे सही मात्रा में गर्म करना ताकि उसके पोषक तत्व नष्ट ना हो। 

Leave a Reply