You are currently viewing संत कबीर जी

संत कबीर जी

कबीर माया पापणीं, हरि सूँ करे हराम। मुखि कड़ियाली कुमति की, कहण न देई राम।

Leave a Reply