You are currently viewing रहीम दास जी

रहीम दास जी

रूठे सुजन मनाइए , जो रूठे सौ बार |
रहिमन फिरि फिरि पोइए , टूटे मुक्ता हार ||

Leave a Reply