You are currently viewing मुंशी प्रेमचंद

मुंशी प्रेमचंद

“जिन वृक्षों की जड़ें गहरी होती हैं, उन्हें बार-बार सींचने की जरूरत नहीं होती।”

Leave a Reply