You are currently viewing मुंशी प्रेमचंद

मुंशी प्रेमचंद

चापलूसी का जहरीला प्याला आपको तब तक नहीं नुकसान पहुंचा सकता जब तक कि आपके कान उसे अमृत समझ कर पी ना जाए।

Leave a Reply