You are currently viewing तुलसीदास

तुलसीदास

” दया धर्म का मूल है पाप मूल अभिमान ।
तुलसी दया न छांड़िए जब लग घट में प्राण ।”

Leave a Reply