You are currently viewing चाणक्या

चाणक्या

“चाणक्या: जैसे एक बछड़ा हज़ारो गायों के झुंड मे अपनी माँ के पीछे चलता है। उसी प्रकार आदमी के अच्छे और बुरे कर्म उसके पीछे चलते हैं।”

Leave a Reply