You are currently viewing कालिदास

कालिदास

कालिदास: अवगुण नव के पेंदे के छेद के समान है, जो छोटा हो या बड़ा, एक दिन नव को जरुर डूबा देता है|

Leave a Reply